चल रे मटके टम्मक टूँ - Chal re matke tammak too


हुए बहुत दिन बुढ़िया एक,
चलती थी लाठी को टेक ,

उसके पास बहुत था माल,

 जाना था उसको ससुराल,

मगर राह में चीते शेर

लेते थे राही  को घेर ,

बुढ़िया ने सोची तदबीर

जिससे चमक उठी तक़दीर,

मटका एक मंगाया मोल

लम्बा-लम्बा गोल मटोल,

उसमे बैठी बुढ़िया आप

वह ससुराल  चली चुपचाप ,

बुढ़िया गाती  जाती यूँ

 चल रे मटके टम्मक टूँ।


   -लेखक  अज्ञात 
SHARE

Milan Tomic

Hi. I’m Designer of Blog Magic. I’m CEO/Founder of ThemeXpose. I’m Creative Art Director, Web Designer, UI/UX Designer, Interaction Designer, Industrial Designer, Web Developer, Business Enthusiast, StartUp Enthusiast, Speaker, Writer and Photographer. Inspired to make things looks better.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment